आजमगढ़-नोडल अधिकारी करेंगे निगरानी, बंटेगा निशुल्क राशन

आजमगढ़। अप्रैल माह की पहली तारीख को अंत्योदय कार्डधारकों को नोडल अधिकारी की निगरानी में निश्शुल्क राशन बांटा जाएगा। आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को नोडल अधिकारी बनाया गया है। इसमें अंत्योदय कार्डधारक, मनरेगा जाब कार्ड, निर्माण श्रमिक व दिहाड़ी मजदूरों को सुविधा मिलेगी। कोटेदारों द्वारा उन सभी पंजीकृत मजदूरों की सूची उपलब्ध कराई जा रही, जिससे खाद्यान्न का उठान किया जा सके। कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए किए गए लाकडाउन को देखते हुए सरकार ने दिहाड़ी मजदूरों के भरण-पोषण के लिए खाद्यान्न वितरण करेगी। अंत्योदय कार्डधारकों को 35 किग्रा. प्रति परिवार की दर से वितरित किया जाएगा। दिहाड़ी मजदूरों व मनरेगा जाब कार्ड धारकों व श्रम विभाग के निर्माण मजदूरों जो श्रम विभाग में पंजीकृत हैं और जिनके पास राशन कार्ड नहीं उन्हें भी वितरित किया जाएगा। जिले में 2172 कोटेदार हैं। इसमें लगभग अंत्योदय के एक लाख पांच हजार 783 कार्डधारक हैं और दो लाख 50 हजार से अधिक मनरेगा जाब कार्डधारक व श्रम निर्माण श्रमिक हैं। आजमगढ़। अप्रैल माह की पहली तारीख को अंत्योदय कार्डधारकों को नोडल अधिकारी की निगरानी में निश्शुल्क राशन बांटा जाएगा। आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को नोडल अधिकारी बनाया गया है। इसमें अंत्योदय कार्डधारक, मनरेगा जाब कार्ड, निर्माण श्रमिक व दिहाड़ी मजदूरों को सुविधा मिलेगी। कोटेदारों द्वारा उन सभी पंजीकृत मजदूरों की सूची उपलब्ध कराई जा रही, जिससे खाद्यान्न का उठान किया जा सके। कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए किए गए लाकडाउन को देखते हुए सरकार ने दिहाड़ी मजदूरों के भरण-पोषण के लिए खाद्यान्न वितरण करेगी। अंत्योदय कार्डधारकों को 35 किग्रा. प्रति परिवार की दर से वितरित किया जाएगा। दिहाड़ी मजदूरों व मनरेगा जाब कार्ड धारकों व श्रम विभाग के निर्माण मजदूरों जो श्रम विभाग में पंजीकृत हैं और जिनके पास राशन कार्ड नहीं उन्हें भी वितरित किया जाएगा। जिले में 2172 कोटेदार हैं। इसमें लगभग अंत्योदय के एक लाख पांच हजार 783 कार्डधारक हैं और दो लाख 50 हजार से अधिक मनरेगा जाब कार्डधारक व श्रम निर्माण श्रमिक हैं। आजमगढ़। अप्रैल माह की पहली तारीख को अंत्योदय कार्डधारकों को नोडल अधिकारी की निगरानी में निश्शुल्क राशन बांटा जाएगा। आपूर्ति विभाग के अधिकारियों को नोडल अधिकारी बनाया गया है। इसमें अंत्योदय कार्डधारक, मनरेगा जाब कार्ड, निर्माण श्रमिक व दिहाड़ी मजदूरों को सुविधा मिलेगी। कोटेदारों द्वारा उन सभी पंजीकृत मजदूरों की सूची उपलब्ध कराई जा रही, जिससे खाद्यान्न का उठान किया जा सके। कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने के लिए किए गए लाकडाउन को देखते हुए सरकार ने दिहाड़ी मजदूरों के भरण-पोषण के लिए खाद्यान्न वितरण करेगी। अंत्योदय कार्डधारकों को 35 किग्रा. प्रति परिवार की दर से वितरित किया जाएगा। दिहाड़ी मजदूरों व मनरेगा जाब कार्ड धारकों व श्रम विभाग के निर्माण मजदूरों जो श्रम विभाग में पंजीकृत हैं और जिनके पास राशन कार्ड नहीं उन्हें भी वितरित किया जाएगा। जिले में 2172 कोटेदार हैं। इसमें लगभग अंत्योदय के एक लाख पांच हजार 783 कार्डधारक हैं और दो लाख 50 हजार से अधिक मनरेगा जाब कार्डधारक व श्रम निर्माण श्रमिक हैं।