सेवा विस्तार और रिइम्प्लॉयमैंट पर CM और नेता प्रतिपक्ष में तीखी नोकझोंक

स्तार और रिइम्प्लॉयमैंट के सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बताया कि कांग्रेस सरकार के समय मे 2013 से 2017 तक कुल 2397 कर्मचारी और अधिकारियों को सेवा विस्तार दिया गया जबकि 1248 को रिइम्प्लॉयमैंट दिया गया। उन्होंने बताया कि 2 वर्षों में बीजेपी सरकार में 20 लोगों को सेवा विस्तार दिया गया, 213 को फिर से रोजगार दिया गया है जिसमें सबसे ज्यादा पटवारी हैं क्योंकि पटवारी की ट्रेनिंग में समय ज्यादा लग जाता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की तुलना में भाजपा सरकार ने बहुत कम लोगों को सेवा विस्तार और रिइम्प्लॉयमैंट दिया है जबकि कांग्रेस ने अपने चहेतों को फायदा देने के लिए निचले कर्मचारियों के साथ अन्याय किया। इस पर नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने आपत्ति जताई और कहा कि बीजेपी ने सत्ता में आने से पहले टायर्ड और रिटायर्ड लोगों को बाहर करने की बात कही थी लेकिन फिर भी सरकार ने सेवा विस्तार दिया। उन्होंने पूछा कि क्या सरकार भविष्य में इसे बिल्कुल खत्म करने का विचार रखती है या नहीं। इस मुद़्दे पर मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष में तीखी नोकझोंक भी हुई। मुख्यमंत्री ने कांग्रेस नेता मुकेश अग्निहोत्री को व्यवहार बदलने की सलाह दी और साथ मे बैठे पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से कुछ सीख लेने की नसीहत भी दी।
इसके बाद कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा के तबादले के सवाल पर मुख्यमंत्री ने सदन में जानकारी दी कि 43 हजार तबादले कांग्रेस सरकार के समय में हुए जबकि 2 वर्षों में बीजेपी सरकार में 41 हजार तबादले हुए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि भविष्य में इसमें कमी की जाएगी, जिस पर विपक्ष ने सदन में नारेबाजी शुरू कर दी। इसके साथ ही विधानसभा उपाध्यक्ष ने प्रश्नका