कई नामी-गिरामी कंपनियों की परियोजनाएं संचालित भटक रहे स्थानीय बेरोजगार

सिंगरौली।। भारत की ऊर्जा धानी सिंगरौली के नाम से प्रख्यात सिंगरौली जिले में जहां औद्योगिक परियोजनाओं की भरमार है वहीं स्थानीय युवा बेरोजगार नौकरी की तलाश में इधर-उधर भटकते नजर आ रहे हैं। नवरत्न कंपनी एनसीएल एनटीपीसी की बात छोड़ दी जाए तो भी आज की स्थिति में सिंगरौली औद्योगिक परियोजनाओं का गढ़ बना हुआ है। जहां एस्सार,रिलायंस, जेपी,  हिंडालको, एपी,महान कोल्ड एंड पावर लिमिटेड जैसी कंपनियां जिला मुख्यालय के आसपास अपनी परियोजनाएं डाली हुई है स्थानीय वासियों को छोड़ दिया जाए फिर भी विस्थापितों के घर पर दो वक्त की रोटी के लाले पड़े हैं एक तरफ कंपनियां पुनर्वास पश्चात अच्छे आर्थिक व सामाजिक स्थिति को मजबूत करने का दावा करती हैं वही एनटीपीसी एनसीएल हिंडाल्को रिलायंस जेपी के पुनर्वास कालोनियों में देखा जाए तो गरीब विस्थापितों के लिए न तो रहने का घर न तो खाने की रोटी इस तरह की स्थितियां मुख्यमंत्री घोषणा अनुसार सिंगरौली में देखी जा रही हैं।।